Cordelia/कोर्डेलिया का चरित्र स्केच हिन्दी में ( In Hindi) Shakespeare's Tragedy

Character Sketch of Cordelia (Hindi)

Introduction: कॉर्डेलिया:-

कॉर्डेलिया शेक्सपियर की Tragedies की ही नहीं बल्कि पूरे अंग्रेजी साहित्य की सबसे प्रसिद्ध और उत्कृष्ट महिला पात्रों में से एक है।  शेक्सपियर की त्रासदी (Tragedy) 'किंग लियर' में यह सबसे प्रमुख पात्रों में से है। वह नाटक के नायक किंग लियर की तीसरी बेटी हैं।  वह प्रेम, ईमानदारी, सादगी, और कर्तव्यनिष्ठा की प्रतिमूर्ति हैं। वह पूरी तरह से अपनी बहनों गोनेरिल और रेगन से अलग है, जो अपने पिता के प्रति बेईमान और प्रेमहीन हैं। वह अपने पिता से वास्तविक प्रेम करती है।  यहां तक ​​​​कि उसे उसके पिता द्वारा घर से निकाल दिया जाता है क्योंकि वह उन्हें चापलूसी भरा जवाब देने में विफल रहती है। लेकिन उसे अपने ईमानदार होने पर पछतावा नहीं है।  यह स्पष्ट है कि किंग लियर ने अपने फैसले में एक बड़ी गलती की है जिसका एहसास उन्हे जल्द ही हो जाता  है।  वास्तव में, यह कॉर्डेलिया का प्रामाणिक प्रेम ही है जो उसे किंग लियर की मदद करने के लिए प्रेरित करता है जब उन्हें उसकी बहनों द्वारा निष्कासित कर दिया जाता है।
कॉर्डेलिया का चरित्र स्केच हिन्दी में
source : google

Contents :-

कॉर्डेलिया का चरित्र स्केच :-

सदाचारी और ईमानदार :-

कॉर्डेलिया एक गुणी बेटी है।  वह बहुत ईमानदार और निष्कपट हैं।  इस play में किंग लियर ने अपने राज्य को अपनी बेटियों के बीच बांटने का फैसला किया।  वह चाहते हैं कि हर बेटी को जमीन का एक हिस्सा उसके हिसाब से दिया जाए कि वे अपने पिता से कितना प्यार करती हैं।

वह प्रत्येक बेटी से अपने प्रति उनके प्रेम का व्याख्यान करने के लिए कहता है।  कॉर्डेलिया की दो बड़ी बहनें, गोनेरिल और रेगन, किंग लियर को चापलूसी भरा जवाब देती हैं।  वे अपनी चापलूसी और अपने पिता के प्रति प्रेम की घोषणा में एक-दूसरे से आगे निकलने का प्रयास करती हैं।  लेकिन सच्चाई यह है कि वे लियर से प्यार नहीं करती हैं और अपने पिता के साथ बहुत बेईमान हैं।  दूसरी ओर, कॉर्डेलिया तो सबसे पहले  इस 'प्रेम की अभिव्यक्ति' की परीक्षा में भाग लेने से ही इनकार कर देती है।  वह अपने पिता के सवाल के जवाब में 'कुछ नहीं' कहती है।  यहां स्पष्टवादी होने के नाते, वह कहती है कि वह अपने पिता से उतना ही प्यार करती है जितना एक बेटी को करना चाहिए।  उसका अपने पिता के प्रति उतना ही कर्तव्य है जितना एक बच्चे का अपने पिता के प्रति होना चाहिए।

पहले से ही गोनेरिल और रेगन के चापलूसी भरे जवाबों से प्रभावित किंग लियर, कॉर्डेलिया द्वारा उनके प्रति दिए गए अपने प्यार के विवरण के बाद गुस्से में आ जाते हैं।  वह उसे अस्वीकार कर देते हैं और उसे कुछ भी नहीं देते हैं।  उसकी ईमानदारी और सत्यनिष्ठा फ्रांस के राजा को उससे शादी करने के लिए प्रेरित कर लेती है जबकि उसे उसके पिता से कुछ नही मिलने वाला।

पूर्णता का अवतार :-

कॉर्डेलिया पूर्णता के करीब है।  वह एक आदर्श चरित्र है और अक्सर उसे एक Christlike figure के रूप में देखा जाता है।  वह आवेग में नहीं आती और दुख और आनंद के प्रति साधारण रवैया रखती है। किंग लियर द्वारा उसे अस्वीकार करने  पर भी वह कोई विपरीत प्रतिक्रिया नही देती।  उसमें बदला लेने की कोई भावना नहीं है बल्कि वह अपने पिता की सहायता के लिए आती है और फ्रांसीसी सेना के साथ ब्रिटेन पर हमले करती है।  वह केवल अपने पिता की मदद करने और उन्हें बेहतर स्थिति में लाने के लिए वहाँ तक का सफर करती है।
[और पढ़ें:- किंग लियर का सारांश]

आदर्श पुत्री :-

कॉर्डेलिया एक आदर्श बेटी है।  अपने पिता के प्रति उसका प्यार वास्तविक और प्रामाणिक है।  अपनी बहनों के विपरीत, वह किसी भी लाभ की लालसा के लिए उनकी चापलूसी नहीं करती।  उसके और उसके पिता के बीच प्रेम का उसका वर्णन सही है, जिसे किंग लियर समझ नहीं पाते है।  वह यहाँ बहुत नासमझी का और अनुचित  काम करते हैं।  अपनी बेटियों को परखने में उनकी गलती उनके पतन की ओर ले जाती है।  उनकी बड़ी बेटियों ने, जिन्हें उन्होंने अपनी सारी जमीन दे दी, उनके साथ बहुत बुरा व्यवहार किया और उन्हें भिक्षुक के स्तर तक ले आती हैं।  यहां कॉर्डेलिया उनकी सहायता के लिए आती है।  किंग लियर को जल्द ही अपनी गलती का एहसास होता है और वह अपने किए के पर पछतावा होता है।  तब जाकर वह एक बेटी और एक पिता के असली बंधन को सीख पाते हैं। लंबे अंतराल के बाद मंच पर कॉर्डेलिया का पुन: वापस आना दर्शकों को लियर के भविष्य के प्रति आशा की किरण देता है।

 कॉर्डेलिया अपने पिता से प्यार करती है और वह एक बेटी के रूप में अपने कर्तव्यों और जिम्मेदारियों को जानती है।  यहां तक ​​कि वह अपने पिता की रक्षा के लिए अपनी जान भी कुर्बान कर देती है।

 जिद्दी और अडिग :-

 कॉर्डेलिया अपने पिता की तरह जिद्दी है।  वह खुलकर अपने प्यार का इजहार नहीं करती हैं।  और न ही वह अपने पिता के गुस्से को शांत करने की कोशिश करती है जब वह उसके द्वारा दिये गए  अपने प्यार के विवरण से क्रोधित हो जाते है।  वह अपने वास्तविक विचारों से जुड़ी रहती है और स्थिरता को प्रदर्शित करती है।

 हालाँकि, वह अपने पिता की तरह हठी है, लेकिन उसकी जिद और घमंड जायज है।  सत्य के प्रति उसकी निष्ठा और अपने कर्तव्य का अहसास उसे अपने पिता के अलग बनाता है।  वह सही मूल्यों के लिए अडिग है।

 इस प्रकार एक चरित्र के रूप में कॉर्डेलिया, शेक्सपियर द्वारा निर्मित एक उत्तम पात्र है।  शेक्सपियर की इस सबसे प्रसिद्ध त्रासदी के अन्य पात्रों से वह स्पष्ट रूप से अलग है।  शेक्सपियर की त्रासदियों के संबंध में वह बहुत ही असामान्य चरित्र है।  उसके चरित्र की बहुआयामी विशेषताओं का विश्लेषण एक कागज के टुकड़े में नहीं किया जा सकता है।

कुछ अन्य प्रश्न :-

 1) किंग लियर में कॉर्डेलिया की क्या भूमिका है?

 उत्तर- कॉर्डेलिया, किंग लियर के बाद इस दुखद नाटक का दूसरा मुख्य पात्र है।  किंग लियर की यह सारी ट्रेजेडी और पतन कॉर्डेलिया के किंग लियर को चापलूसी भरा जवाब देने से इनकार करने के साथ शुरू होता है। यह त्रासदी भी किंग लियर और कॉर्डेलिया की मृत्यु के साथ ही समाप्त होती है।

 2) क्या कॉर्डेलिया एक अच्छा पात्र है?

 उत्तर- कॉर्डेलिया निश्चित रूप से एक आदर्श चरित्र है।  वह प्रेम, सत्य और ईमानदारी की प्रतिमूर्ति है।  उसकी अक्सर वर्जिन मरियम से  तुलना की जाती है।

3) कॉर्डेलिया को किसने मारा?

 उत्तर- कॉर्डेलिया की हत्या ग्लौसेस्टर के नाजायज पुत्र एडमंड ने की थी।

Previous
Next Post »

Your Views and Comments means a lot to us. ConversionConversion EmoticonEmoticon